Widget Recent Post No.

Zindagi Shayari, Kat Rahi Jo Reet Hai

Kat Rahi Jo Reet Hai, 
Ye Zindagi Ka Geet Hai,
Kaun Tera Preet Hai?
Vah Preet Hai Ya Meet Hai.

Shuru Hua Jo Yah Safar,
Badal Raha Hai Har Shahar, 
Intajaar Mein Hai Mera Ghar, 
Tatolata Ateet Hai. 
Kat Rahi Jo Reet Hai ,
Yah Zindagi Ka Geet Hai..

Bachapan Ki Jahaan Khilee Kalee,
Bhool Chuka Hoon Vah Galee, 
Maan-baap Hain, Ummeed Hai,
Aansoo Motee, Aankh Seep Hai.
Kat Rahi Jo Reet Hai.......


Zindagi Shayari, Kat Rahi Jo Reet Hai

कट रही जो रीत है, 
ये जिंदगी का गीत है,
कौन तेरा प्रीत है?
वह प्रीत है या मीत है।

शुरू हुआ जो यह सफर,
बदल रहा है हर शहर, 
इंतजार में है मेरा घर, 
टटोलता अतीत है। 
कट रही जो रीत है ,
यह जिंदगी का गीत है।।

बचपन की जहाँ खिली कली,
भूल चुका हूँ वह गली, 
माँ-बाप हैं, उम्मीद है,
आँसू मोती,आँख सीप है।
कट रही जो रीत है.......

Post a Comment

0 Comments