Widget Recent Post No.

Bheega rahi hai in aankhon ko

भीगा रही है इन आँखों को
बेवक़्त की है बरसात फिर
जो तेरी बातों ने दिल दुखाया
तू याद आया है आज फिर
कुणाल वर्मा

Bheega rahi hai in aankhon ko

Bheega rahi hai in aankhon ko
Bewaqt ki hai barsat phir
Jo teri baaton ne dil dukhaya
Tu yaad aaya hai aaj phir


Kunaal Vermaa

Ab Na Main Hun, Na Baaki Hai Zamane Mere,
Fir Bhi MashHoor Hain Shaharon Mein Fasane Mere,
Zindagi Hai Toh Naye Zakhm Bhi Lag Jayenge,
Ab Bhi Baaki Hain Kayi Dost Puraane Mere.

Rahat Indori

अब ना मैं हूँ, ना बाकी हैं ज़माने मेरे​,
फिर भी मशहूर हैं शहरों में फ़साने मेरे​,
ज़िन्दगी है तो नए ज़ख्म भी लग जाएंगे​,
अब भी बाकी हैं कई दोस्त पुराने मेरे।
राहत इन्दोरी


Loo Bhi Chalti Thi Toh Baad-e-Shaba Kehte The,
Paanv Failaye Andheron Ko Diya Kehte The,
Unka Anjaam Tujhe Yaad Nahi Hai Shayad,
Aur Bhi Log The Jo Khud Ko Khuda Kehte The.

Rahat Indori

लू भी चलती थी तो बादे-शबा कहते थे,
पांव फैलाये अंधेरो को दिया कहते थे,
उनका अंजाम तुझे याद नही है शायद,

और भी लोग थे जो खुद को खुदा कहते थे।
राहत इन्दोरी

Bachpan Mein Toh Shaamein Bhi Hua Karti Thi,
Ab Toh Bas Subah Ke Baad Raat Ho Jaati Hai.

बचपन में तो शामें भी हुआ करती थी,
अब तो बस सुबह के बाद रात हो जाती है।


Bachpan Ke Din Kitne Achhe Hote The,
Tab Dil Nahi Sirf Khilone Tuta Karte The,
Ab To Ek Aansu Tak Bhi Bardaasht Nahi Hota,
Aur Bachpan Mein Jee Bharkar Roya Karte The.

बचपन के दिन भी कितने अच्छे होते थे,
तब दिल नहीं सिर्फ खिलौने टूटा करते थे,
अब तो एक आंसू भी बर्दाश्त नहीं होता,
और बचपन में जी भरकर रोया करते थे।

Post a Comment

0 Comments